Monthly Archives: February 2018

कागज का वो टुकड़ा….

जन्म से ही मूक-बधिर दीपा ने कागज के उस टुकड़े को संभाल कर रखा है। उसने बाकायदा इसे अपने कमरे में फ्रेम करके टांगा हुआ है।

Read more

काफल पाको… मिन नी चाखो

एक गांव में एक आदमी काफल बेचकर अपने परिवार का पालन-पोषण करता था. उसकी रोजी-रोटी का यही एक जरिया था. जिस दिन उसे काफल नहीं मिलते, पूरे परिवार को उस दिन भूखा सोना पड़ता.

Read more

छि‍बड़ाट एक कोश‍िश है…

छिबड़ाट एक उत्तराखंडी समाचार और सांस्कृतिक प्रोत्साहन के लिए बनाई गई वेबसाइट व यूट्यूब चैनल है. यहां हमारा प्रयास उत्तराखंड की संस्कृति‍, भाषा और इससे जुड़े मुद्दों को दुनिया तक पहुंचाना है.

Read more