अपना सबकुछ खोकर दूसरों को बहुत कुछ देने वाला एक शख्स

बात साल 2012 की है। जर्मनी का म्यूनिख शहर। अस्पताल के एक कमरे में एक इंसान कैंसर से जंग लड़ रहा है। जिंदगी के लिए लड़ी जा रही इस जंग में उसने अपनी सारी जमा पूंजी लगा दी। मकान-जायदाद सब दांव पर लग गया। वक्त ऐसा आया कि बच्चों की स्कूल फीस भरने के लिए भी जेब में पैसे नहीं थे। करीब 6 महीने तक जिंदगी के लिए जंग लड़ने के बाद वो शख्स अस्पताल के कमरे से बाहर आया। जिंदगी को नये सिरे से शुरू करने की जद्दोजहद के साथ शुरू हुआ एक अभियान। एक ऐसा अभियान जो सैकड़ों लोगों की जिंदगी बदल रहा है। 

ये कोई कहानी नहीं है। ये एक जीवन कथा है। टिहरी गढ़वाल के जामणीखाल के रहने वाले राकेश पंवार की जीवन कथा। मौत को आंख दिखाने के बाद राकेश ने शुरुआत की ‘जीवन कथा’ नाम की संस्था का। ये संस्था क्या करती है? क्यों हम आपको राकेश पंवार के बारे में बता रहे हैं? आपको इन सवालों का जवाब आगे मिल जाएगा।

खैर्यों का बाटा हिटणै की  ‘जीवन कथा’
राकेश पंवार जब बीमारी से उठे तो उन्होंने उन लोगों की खातिर कुछ करने की ठानी, जिन्हें जिंदगी में काफी दुख-विपदाएं सहनी पड़ती हैं। इसके लिए राकेश पंवार ने ‘जीवन कथा’ नाम की संस्था शुरू की। यह संस्था बीमारों का इलाज, भूखों को अनाज, गरीबो को छत, गरीब बच्चों की स्कूल फीस और बेघरों को सहारा देने का काम करती है। जीवन कथा आज उत्तराखंड के कई गांवों में कई जरूरतमंदों की मदद कर चुकी है। लगातार मदद कर रही है। 

जीवन कथा से जुड़े हैं कई लोग
राकेश पंवार ने जिस अभियान की शुरुआत की थी। आज उस अभियान कई लोग जुड़ चुके हैं। देश और दुनिया के कई लोग जीवन कथा के जरिये अब जरूरतमंदों की खातिर दान दे रहे हैं। जीवन कथा की मीटिंग्स बड़े-बड़े NGOs की तरह फाइव स्टार होटल में नहीं होती, बल्कि इनका एक ऑफिस टिहरी गढ़वाल के अपर मार्केट में है। जहां कोई भी जरूरतमंद अपनी अर्जी लेकर पहुंच सकता है। और जीवन कथा उनकी मदद के लिए हमेशा तैयार रहती है। जीवन कथा ने क्या काम किया है? और क्या काम कर रही है, ये आप जीवन कथा के फेसबुक पेज पर डाले गए वीडियोज में देख सकते हैं.      

आप भी जुड़ सकते हैं
ऐसा नहीं है कि जीवन कथा के पास करोड़ों का फंड है। जीवन कथा जो भी दान-धर्म करती है, वो कई दानदाताओं की मदद से होता है। आप भी जीवन कथा के जरिये जरूरतमंदों तक मदद पहुंचा सकते हैं। बस किसी का जीवन बदलने की मंशा रखिये…विश्वास करिये और जो संभव हो ..वो सहयोग दे दीजिए।

राकेश पंवार का ये अभियान कई जिंदगियों को बदल रहा है। कई बेसहारों को सहारा दे रहा है। राकेश पंवार की हिम्मत और जज्बे को हम सलाम करते हैं। सिर्फ राकेश पंवार ही नहीं, बल्कि उनके इस अभियान को आगे बढ़ा रहे हर शख्स को हम सलाम करते हैं। क्योंकि ये लोग अपनी निजी जिंदगी की व्यस्तता के बीच वो काम कर रहे हैं, जिसे न हम करने की सोचते हैं और न ही कर पाते हैं। 

राकेश पंवार और उनकी पूरी टीम को छिबड़ाट का साधुवाद।… और हम उम्मीद करते हैं कि जीवन कथा का ये अभियान यूं ही चलता रहे। आगे बढ़ता रहे। और कई जिंदगियां बदलता रहे ताकि जिन जीवन कथाओं में दुख के कांटे हैं… उनमें आनंद के फूल खिल सकें… और बन सके एक खूबसूरत व सुखद जीवन कथा।

वीडियो देखें

Leave a Reply