Category Archives: लोक काव्य

नइमा खान उप्रेती: पूरी जिंदगी उत्तराखंडी लोक संगीत पर न्यौछावर की

आज जब आप बेडु पाको बारोमासा और लाली हौेंसिया जैसे गीत गुनगुनाते हैं, तो इन गीतों को भी आप तक पहुंचाने में इनकी अहम भूमिका रही है। इनका नाम है नइमा खान उप्रेती।

Read more

…पलायन बेचारा जीत गया

यह कविता सोशल मीडिया से ली गई है। हम इसके लेखक का नाम तो नहीं जानते पर ये कविता सच बयां करती है।…

Read more

डांडी-कांठ्योंन भी धै लाणी छोड़याली…

पलायन की मार झेल रहे उत्तराखंड का दर्द बयां करती एक उत्तराखंडी कवि की कविता….

Read more

अच्छे दिन आने वाले हैं?

अच्छे दिनों का वादा लेकर आए पीएम मोदी जी…. के अच्छे दिन ढूंढती एक कव‍िता

Read more

उत्तराखंड का राज्य गीत…

उत्तराखंड का पूरा राज्य गीत यहां दिया गया है. इसे नरेंद्र सिंह नेगी और अनुराधा निराला ने गाया है.

Read more

गढ़वाली कव‍िता: म्यारा गौं मां जब मनखी छाई…

पलायन पर एक दिल झकझोर देने वाली कव‍िता…

Read more