Tag Archives: lok katha

… और उसको सूरज दीदी ने रास्ता दिखाया

उत्तराखंड की यह लोककथा तब की है, जब लड़क‍ियों की शादी जंगलों पार होती थी. ऐसे में अपने मायके जाने के लिए उसे सालों तक इंतजार करना पड़ता था.

Read more