Tag Archives: old garhwali song

धगुली, हंसुली बच्चे अब पहनेंगे ही नहीं, पढ़ेंगे भी

सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनों से एक किताब के कुछ पन्ने वायरल हो रहे हैं।गढ़वाली भाषा में कविताएं लिखी गई हैं। जब हमने पड़ताल की तो हमें जो पता चला वोआपके चेहरे पर एक बड़ी मुस्कान ला देगा।

Read more

नइमा खान उप्रेती: पूरी जिंदगी उत्तराखंडी लोक संगीत पर न्यौछावर की

आज जब आप बेडु पाको बारोमासा और लाली हौेंसिया जैसे गीत गुनगुनाते हैं, तो इन गीतों को भी आप तक पहुंचाने में इनकी अहम भूमिका रही है। इनका नाम है नइमा खान उप्रेती।

Read more